About Christmas in Hindi | Why Do We Celebrate Christmas? | Christmas Essay in Hindi

क्रिसमस का त्योहार एकता और भाईचारे का प्रतीक (About Christmas In Hindi)


क्रिसमस का त्योहार ईसा मसीह के जन्म की खुशी में मनाया जाने वाला त्योहार है। यह त्योहार मुख्य रूप से ईसाइयों द्वारा मनाया जाता है, परंतु आजकल बच्चों में क्रिसमस पर्व को लेकर काफी उत्साह देखने को मिलता है इसीलिए अब प्रत्येक धर्म के लोग क्रिसमस का त्योहार बड़ी धूमधाम के साथ मनाने लगे हैं। क्रिसमस 25 दिसंबर को मनाया जाता है इस दिन बड़ा दिन भी होता है और पूरे विश्व में अवकाश रहता है। ईसा मसीह के जन्म दिवस की खुशी में पूरे दिसंबर को क्राइस्टमास के नाम से जाना जाता है। क्रिसमस के समाप्त होते ही नववर्ष की शुरुआत होती है। आप पढ़ रहे हैं about christmas in hindi. क्रिसमस दिवस आने से पूर्व ईसाई बहुल इलाके सजने लगते हैं, चर्चों में विशेष प्रार्थना शुरु हो जाती है। क्रिसमस पर्व पर एक दूसरे को उपहार दिए जाते हैं तथा क्रिसमस ट्री को रंग-बिरंगी लाइटों, लड़ियाँ, टाफियों आदि से सजाया जाता है।

ईसा मसीह की जन्म कथा (Biography of Jesus)


क्रिसमस ईसाइयों के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक है। एन्नो डोमिनी काल प्रणाली के आधार पर ईसा मसीह का जन्म 7 से 2 ईसा पूर्व के बीच माना जाता है परंतु उनके जन्म को लेकर निश्चय जन्म तिथि ज्ञात नहीं है. क्रिसमस शब्द की उत्पत्ति क्राइस्टेस माइसे तथा क्राइस्ट मास शब्द से हुई है। माना जाता है कि पहला क्रिसमस रोम में 326 ई. में मनाया गया था। इस लेख के माध्यम से about christmas in hindi की जानकारी दी जा रही है

बाइबिल के अनुसार ईसा मसीह का जन्म मरियम के गर्भ से हुआ था जिस समय ईसा मसीह का जन्म हुआ उस समय मरियम क्वारी थी परंतु दाउद के राजबंशी यूसुफ नाम के व्यक्ति के साथ उनकी सगाई हो गई थी। एक दिन मरियम के पास स्वर्गदूत आए जिन्होंने कहा कि जल्दी आप प्रभु के पुत्र को जन्म देंगी तथा बच्चे का नाम जीसस रखा जाएगा, वह बड़ा होकर राजा बनेगा और उसके राज्य की कोई सीमा नहीं होगी तथा वह संसार को कष्टों से मुक्ति का रास्ता दिखाएगा। मरियम देवदूत की यह बात सुनकर आश्चर्य चकित हो गई और देवदूत से कहने लगी कि में अभी अविवाहित हूं यह कैसे संभव है, देवदूत ने कहा कि यह चमत्कार के माध्यम से होगा। मरियम और युसूफ ने जल्दी ही शादी कर ली और दोनों बेथलेहम में रहने लगे, वहींं एक अस्तबल में ईसा मसीह का जन्म हुआ पूरी जानकारी के लिए पढ़ते रहिए about christmas in hindi.

ईसा मसीह ने दी एकता की सीख

ईसा मसीह ने दुनिया को एकता और भाईचारे की सीख दी तथा ईश्वर के पास जाने का मार्ग दिखलाया। ईसा मसीह ने लोगों को क्षमा करने और क्षमा मांगने पर जोर दिया।

भारत में क्रिसमस की धूम

प्रत्येक देश में क्रिसमस को अपनी अपनी परंपराओं के साथ मनाया जाता है। भारत में भी ईसाई समाज में यह त्योहार बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। गोवा के पणजी में यह त्योहार देखने लायक होता है, पणजी के समुद्र तट पर स्थानीय व विदेश विदेश से आने वाले लोगों की भीड़ इकट्ठा होती है। 25 दिसंबर को मौसम भी खुशनुमा होता है, चारों तरफ पव, बीच और चर्च में सांता क्लाउज की टोपी पहने सभी धर्मों के लोग अंग्रेजी प्रार्थनाओं और गानों की धुन पर थिरकते हुए नजर आते हैं। पूर्ण जानकारी के लिए पढ़ते रहिए about christmas in hindi.

पश्चिम बंगाल में भी मदर टेरेसा द्वारा सेवा और ईसाई धर्म के प्रचार प्रसार के कारण पश्चिम बंगाल में ईसाई समाज की जनसंख्या काफी मात्रा में है। कोलकाता में भी क्रिसमस के त्योहार पर बहुत धूम रहती है। इसी तरह पुरे देश के प्रमुख शहरों में क्रिसमस के दिन शॉपिंग मॉल, गली ,सड़कें, घर, चर्च आदि सजे- धजे रहते हैं।

बच्चों को रहता है सांता क्लाउज का इंतजार

सांता क्लाॅॅज क्रिसमस दिवस पर बच्चों के लिए मुख्य आकर्षण होता है। सांता क्लॉज को क्रिसमस का पता भी कहा जाता है। सांता क्लॉज क्रिसमस से जुड़ी एक लोकप्रिय शख्सियत होता है परंतु सांता क्लॉज अकल्पनीय व्यक्ति है जो एक गोलमोल आदमी की छवि लिए हुए बच्चों को रात में तोहफे देकर जाता है। सुबह जब बच्चे जागने पर अपने पास ढेर सारे गिफ्ट देखते हैं तो खुश होते हैं। सांता क्लॉज लाल रंग के कपड़े पहने और लंबी टोपी लगा कर आता है जिसकी दाढ़ी और बाल लंबे होते हैं। सांता क्लॉस के अस्तित्व को लेकर लोगों के बीच कई मान्यताएं हैं कई लोग मानते हैं कि चौथी शताब्दी में संत निकोलस जो तुर्की के मीरा नामक शहर के विपस थे वही असली संता थे। संता क्लॉज हमेशा गरीबों को उपहार देते थे लोग सांता क्लॉज का काफी आदर और सम्मान करते थे। उसी समय से सांता क्लॉज की परिकल्पना की जाने लगी।

क्रिसमस कार्यक्रम

आप पढ़ रहे हैं about christmas in hindi. क्रिसमस का समारोह अर्ध रात्रि के समय के बाद शुरू होता है इसके बाद मनोरंजन के कार्यक्रम प्रारंभ होते हैं, सुंदर रंगीन वस्त्र पहने बच्चे ड्रम्स, आर्केस्ट्रा, झांझ मजीरा और चमकीली छ़ड़िया लिए सामूहिक डांस करते हैं। सांता क्लाउज लाल और सफेद वस्त्र धारण किए रेंडियर पर आता है और बच्चों के साथ खेलता है उन्हें प्यार करता है और उपहार देता है। क्रिसमस के दौरान लोग प्रभु की प्रशंसा में कैरोल गाते हैं। वह प्यार और भाईचारे का संदेश देते हुए घर घर जाते हैं। दुनियाभर के अधिकतर देशों में क्रिसमस दिवस मनाया जाता है। क्रिसमस से 1 दिन पहले जर्मनी और अन्य देशों में समारोह का आयोजन किया जाता है। तथा ब्रिटेन सहित अन्य राष्ट्रमंडल देशों में क्रिसमस के अगले दिन बॉक्सिंग डे मनाया जाता है।

Christmas Essay in Hindi


Christmas Essay in Hindi



Christmas Essay in Hindi

Christmas Essay Shayari In hindi


Christmas Essay in Hindi


0 comments